शोभा ओझा का बड़ा दावा, सिंधिया कैंप ने धोखे से लिया विधायकों के हस्ताक्षर

मध्य प्रदेश की राजनीतिक सरकार में काफी तेज हो गई है और अब वहां का सियासत दिलचस्प मोड़ लेने लगा है और इन सबके बीच एक सवाल खड़ा हुआ है ज्योतिरादित्य सिंधिया ने धोखे से 19 विधायकों से इस्तीफा दिलवाया है ?? सवाल का जवाब है सब जानना चाह रहे हैं कि सच्चाई क्या है ? क्या ज्योतिरादित्य सिंधिया ने धोखे से विधायकों के दस्तखत लिए हैं ?? ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है और उनके साथ ही 21 विधायकों ने भी कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है लेकिन इस बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता शोभा ओझा कहते हैं कि जो विधायक उनके कब्जे में है उन्होंने उन विधायकों से धोखे से इस्तीफा लिया है ।

शोभा ओझा कहती हैं कि विधायकों बताया गया था कि सिंधिया जी ने राज्यसभा सीट के लिए सबको बुलाया था और वह उस वजह से वहां पहुंचे थे। वह कहती कि कांग्रेस के सभी विधायक एक हैं और मौका पड़ने पर साबित कर देंगे कि कमलनाथ सरकार पुलिस पांच साल राज करेगी । कांग्रेस सरकार को हम विधायक कभी गिरने नहीं देंगे वह कहती हैं कि जब विधायकों को यह पता चला कि उनके बीजेपी में शामिल होने की बात चल रही है तो वे नाराज हो गए सभी के सभी विधायक सीएम के संपर्क में है सरकार को खतरा नहीं है कमलनाथ सरकार विधानसभा में बहुमत पेश करेगी उन्होंने कहा कि दरअसल राज्यसभा में ज्योतिरादित्य सिंधिया के समर्थन में दबाव बनाने के लिए हस्ताक्षर कराया गया और उसे इस्तीफे के तौर पर पेश कर दिया गया। वहीं कांग्रेस के कद्दावर नेता लक्ष्मण सिंह कहते हैं कि अगर जरूरत पड़ेगी तो कांग्रेस से लड़ाई करने के लिए तैयार है वे कहते हैं कि कांग्रेस के पास 94 विधायक हैं और कोई भी शक पार्टी के इरादों को नहीं तोड़ सकता।

लक्ष्मण सिंह ने कहा कि हम सिद्धांतों की राजनीति करते हैं हमारे लिए सत्ता अहम नहीं। इसी बीच भोपाल में कांग्रेस विधायकों की बैठक में सर्वसम्मति से सोनिया गांधी के उस फैसले पर मुहर लगाई जिसमें सिंधिया को प्राथमिक सदस्यता से निष्कासित करने का फैसला लिया गया । बता दें कि लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी ने उन्हें गद्दार कह दिया उन्होंने कहा था कि बीजेपी सत्ता के नशे में इस तरह के काम कर रही है लेकिन जो लोग पार्टी की विचारधारा के खिलाफ काम करेंगे उन्हें निकालने के सिवा हमारे पास कोई रास्ता नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *